उत्तराखण्ड के प्रसिद्ध व्यक्ति #16 : टिंचरी माई

प्रारंभिक जीवन पौड़ी गढ़वाल के थलीसैण क्षेत्र के मज्ंयुर गांव के राम दत्त नौटियाल के घर 1917 में जन्मी दीपा नौटियाल की जीवन यात्रा उत्तराखण्ड की नारी के उत्पीड़न सामाजिक कुरीतियों तथा विसंगतियो के विरुद्ध लड़ी गई लड़ाई और साहस Read More …

उत्तराखण्ड के प्रसिद्ध व्यक्ति #15 : गुमानी पंत

प्रारंभिक जीवन कवि गुमानी पन्त जी का जन्म फरवरी 1790 को उत्तराखंड राज्य के ऊधम सिंह नगर जिले में स्थित काशीपुर नामक स्थान पर हुआ था।  इनके पिता देवनिधि पंत उप्रड़ा ग्राम (पिथौरागढ़) के निवासी थे। इनकी माता का नाम देवमंजरी था। इनका मूल Read More …

उत्तराखण्ड का इतिहास # 5 : कुली बेगार आंदोलन

कुली बेगार प्रथा आम आदमी से कुली का काम बिना पारिश्रमिक दिये कराने को कुली बेगार कहा जाता था, विभिन्न ग्रामों के प्रधानो (पधानों) का यह दायित्व होता था, कि वह एक निश्चित अवधि के लिये, निश्चित संख्या में कुली Read More …

उत्तराखण्ड की राजव्यवस्था #4: विशेष श्रेणी राज्य

विशेष श्रेणी राज्य का दर्जा फिलहाल केंद्र सरकार का कहना है कि वह किसी राज्य को विशेष आर्थिक पैकेज तो दे सकता है, लेकिन विशेष श्रेणी राज्य का दर्जा नहीं दिया जा सकता। लेकिन पूर्व में किसी राज्य को विशेष Read More …

हिंदी व्याकरण #12 :  उपसर्ग( परिभाषा, गतियाँ और भेद )

उपसर्ग की परिभाषा उपसर्ग उस शब्दांश या अव्यय को कहते है, जो किसी शब्द के पहले आकर उसका विशेष अर्थ प्रकट करता है। दूसरे शब्दों में– ”उपसर्ग वह शब्दांश या अव्यय है, जो किसी शब्द के आरंभ में जुड़कर उसके Read More …

सिविल सेवा की तैयारी कैसे शुरू करें ?

UPSC सिविल सेवा परीक्षा योग्यता:- कोई भी स्नातक उत्तीर्ण छात्र सिविल सेवा परीक्षा के लिए आवेदन कर सकता है | न्यूनतम प्राप्तांकों को लेकर कोई नियम अभी नहीं है | आयु सीमा: अनारक्षित वर्ग हेतु 21 से 32 वर्ष जो Read More …

उत्तराखण्ड का भूगोल #12 : उत्तराखण्ड का पामीर

पामीर पामीर मध्य एशिया में स्थित एक प्रमुख पठार एवं पर्वत शृंखला है, जिसकी रचना हिमालय, तियन शान, काराकोरम, कुनलुन और हिन्दू कुश शृंखलाओं के संगम से हुआ है। पामीर एक गाँठ के रूप में है जहाँ विभिन्न दिशाओं में Read More …

उत्तराखण्ड का इतिहास # 4 : राज्य निर्माण आन्दोलन

उत्तराखंड को अलग राज्य बनाने हेतु कई आन्दोलन हुए। जिनकी वजह से उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश से अलग हो एक राज्य बन पाया। उत्तराखंड की महिलाओं ने इन आन्दोलनों में भी अहम भूमिका निभाई। उत्तराखंड को एक अलग राज्य का दर्ज Read More …

उत्तराखंड का भूगोल # 11 : प्रमुख जनजातियाँ

उत्तराखंड राज्य की प्रमुख अनुसूचित जनजातियाँ जौनसारी, थारू, भोटिया, बोक्सा और राजी हैं। उत्तराखंड राज्य में प्रमुख जनजातियों की शारीरिक संरचना, उत्पत्ति, निवास स्थल, व्यवसाय तथा सामाजिक व्यवस्था आदि का संक्षिप्त परिचय निम्नलिखित है — जौनसारी जौनसारी गढ़वाल क्षेत्र का Read More …