उत्तराखण्ड का भूगोल #12 : उत्तराखण्ड का पामीर

पामीर पामीर मध्य एशिया में स्थित एक प्रमुख पठार एवं पर्वत शृंखला है, जिसकी रचना हिमालय, तियन शान, काराकोरम, कुनलुन और हिन्दू कुश शृंखलाओं के संगम से हुआ है। पामीर एक गाँठ के रूप में है जहाँ विभिन्न दिशाओं में Read More …

उत्तराखंड का भूगोल # 11 : प्रमुख जनजातियाँ

उत्तराखंड राज्य की प्रमुख अनुसूचित जनजातियाँ जौनसारी, थारू, भोटिया, बोक्सा और राजी हैं। उत्तराखंड राज्य में प्रमुख जनजातियों की शारीरिक संरचना, उत्पत्ति, निवास स्थल, व्यवसाय तथा सामाजिक व्यवस्था आदि का संक्षिप्त परिचय निम्नलिखित है — जौनसारी जौनसारी गढ़वाल क्षेत्र का Read More …

उत्तराखण्ड का भूगोल #10 : अनुसूचित जातियाँ और जनजातियाँ

उत्तर प्रदेश सरकार ने 18 सितम्बर 1976 को उन्हीं 66 जातियों को अनुसूचित जाति की श्रेणी में सम्मिलित किया, जिन्हे संविधान में रखा गया था। अग्रणी संसोधन 2000 में उत्तराखण्ड के लिए भी सूची जारी की गई, जिसमें ‘रावत’, जो Read More …

उत्तराखण्ड का भूगोल #9 : परिवहन

उत्तराखंड राज्य की जटिल भौगोलिक संरचना होने के कारण राज्य के लगभग 40% भू-भाग पर अभी भी सड़कों का विकास न होने के बावजूद राज्य के कुल यातायात में सड़क यातायात का योगदान 85% से अधिक है। उत्तराखंड राज्य के Read More …

उत्तराखंड का भूगोल #8 : प्रमुख आपदाएँ

उत्तराखंड की भौगोलिक संरचना के कारण हर वर्ष यहाँ विभिन्न तरह की प्राकृतिक आपदाएं आती रहती हैं। उत्तराखंड का ज्यादातर भाग पर्वतीय होने के कारण यहाँ भूकम्प, भूस्खलन, अतिवृष्टि, बादल फटना, बाढ़, हिमपात के समय हिमखंडों का गिरना व वनाग्नि Read More …